Thursday, August 13, 2009

"अगर तु कह दे"

मैं परछाई बन के रहूँ अगर तू कह दे


ना करु मै याद तुझे अगर तू कह दे


भेजू वफा का पैगाम सरेआम अगर तू कह दे


युं ही जमाने से गुजर जाउं अगर तू कह दे



मै ना तुझसे मिलूं अगर तू कह दे


मै तेरे ख्वाबो से मिल आउं अगर तू कह दे

खुले आम कर दू इजहार अगर तू कह दे


अजनबी बन के गुजर जाउं अगर तू कह दे


जी लुं जिन्दगी मै अपनी अगर तू कह दे



तेरी नंजरो के सामने दे जान अगर तू कह दे


गमे जुदाई सह जाउं अगर तू कह दे


ना निकलेगी आहं अगर तू कह दे।।

13 comments:

  1. bahut hi sundar bhaw wali rachana ............agar tu kah de ...........ek behad pyar se bhari kawita hai.............badhaai

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी रचना है, जय श्री कृष्ण!

    ReplyDelete
  3. अच्छी रचना
    कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामना और ढेरो बधाई .

    ReplyDelete
  4. गमे जुदाई सह जाउं अगर तु कह दे
    ना निकलेगी आहं अगर तु कह दे।।
    bahut bhavpurn rachana,dil ko chu gayi,badhai

    ReplyDelete
  5. मै तेरे ख्वाबो से मिल आउं अगर तु कह दे
    खुले आम कर दू इजहार अगर तु कह दे

    बहुत बढ़िया।
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  6. अत्यन्त सुंदर! श्री कृष्ण जनमाष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्छी और अनूठी रचना है मेरे दोस्त...
    एक बात कहूँ...
    तु को तू कर दें अभी भी...
    समझ में तो आता है...
    परन्तु आँखों को खटकता है...
    जन्माष्टमी की बधाईयाँ और स्वतंत्रता दिवस हमारे राष्ट्र और हमारे लिए शुभ हो...
    कई संकट मंडरा रहे हैं...

    ReplyDelete
  8. mitr bhut hi sundar bhaav aur utni hi sundar .. abhivyakti hai
    ना निकलेगी आहं अगर तु कह दे।।
    meri badhayi swikaar kare
    saadar
    praveen pathik
    9971969084

    ReplyDelete
  9. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. ""अगर तु कह दे""
    रचना के लिये बहुत बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  11. मैं परछाई बन के रहूँ अगर तू कह दे
    ना करु मै याद तुझे अगर तू कह दे
    भेजू वफा का पैगाम सरेआम अगर तू कह दे
    युं ही जमाने से गुजर जाउं अगर तू कह दे

    waah...waah....bahut khoob.....!!

    ReplyDelete
  12. बेहतरिन रचना। बधाई

    ReplyDelete
  13. लाजवाब रचना दुबे जी। बधाई

    ReplyDelete

आपकी राय हमारे लिये महत्तवपूर्ण है । अपनी बात को बेबाकी से कहें ।